नोटबंदी का कुमाऊँ में असर, आयकर दाताओं की संख्या 25 हज़ार बढ़ी

नोटबंदी का कुमाऊँ में असर, आयकर दाताओं की संख्या 25 हज़ार बढ़ी

आयकर विभाग के लिए नोटबंदी बहुत फायदेमंद रही । आयकर दाताओं की सख्या में 23 फीसदी की बढ़ोतरी होती नज़र आयी और वही आयकर 40-45 फीसदी तक बढ़ा। इस वर्ष पिछले कई सालों की तुलना में काफी अधिक बढ़ोतरी हुई ।
आधिकारिक सुचना के सम्बन्ध में कुमाऊँ में नोटबंदी से पहले करीबन 1.05 लाख की सख्या में आयकर का भुगतान करने वाले लोग थे। यही सख्या नोटबंदी के बाद तेज़ी से ऊपर की ओर बढ़कर महज एक ही वर्ष के समय में 1.30 लाख तक की सख्या को छू गई। देखा जाये तो बीते हुए 5 वर्षो में भी आयकर देने वालो की सख्या इतनी कभी नहीं बढ़ी। आयकर पिछले वर्ष के मुकाबले 40-45 फीसदी ज्यादा, कुल 183 करोड़ जमा हुई। हलाकि निर्धारित लक्ष्य इस वर्ष केवल 205 करोड़ तय किया गया है।
300 से अधिक खातों में नोटबंदी के दौरान 25 लाख से ज्यादा की धन राशि जमा की गयी। आयकर विभाग ने अपना काम इन खातेदारों को नोटिस जारी कर पूरा कर दिया।