For a better experience please change your browser to CHROME, FIREFOX, OPERA or Internet Explorer.
किसान आंदोलन ने मोड़े रोडवेज बसों के पहिये, आंदोलन के चलते प्रभावित हुआ दिल्ली रूट

किसान आंदोलन ने मोड़े रोडवेज बसों के पहिये, आंदोलन के चलते प्रभावित हुआ दिल्ली रूट

ऊधमसिंह नगर से सटे उत्तर प्रदेश के इलाकों में किसानों के सड़क पर विरोध-प्रदर्शन करने की वजह से उत्तराखंड रोडवेज का संचालन प्रभावित हो गया। आंदोलन का सबसे ज्यादा असर दिल्ली रूट की बसों पर पड़ा है। पहले गाडिय़ों को मिलक, कैमरी और अब बाजपुर से वाया मुरादाबाद होते हुए दिल्ली भेजा जा रहा है। ताकि यात्रियों को परेशानी का सामना न करना पड़े। मामला मुख्यालय के संज्ञान में है। आंदोलन के रूख को देखते हुए आगे का फैसला लिया जाएगा।

दिल्ली के आसपास की सीमाओं पर किसानों के डटने से दिल्ली रूट पर पहले रोडवेज की बसों को फंसना पड़ा था। जिस वजह से बसों के पहुंचने में कुछ देरी हो रही थी। कुमाऊं से निकलने वाली रोडवेज की बसें वाया बिलासपुर-रामपुर होकर मुरादाबाद को पहुंचती थी। लेकिन अब बिलासपुर व आगे रामपुर क्षेत्र में किसानों ने सड़क पर आंदोलन शुरू कर दिया है। जिस वजह से दिल्ली रूट क बसें आगे नहीं बढ़ पा रही। पहले गाडिय़ों को वाया मिलक व कैमरी होकर निकाला जा रहा था। मगर अब इन रास्तों पर भी प्रदर्शनकारी जुट गए हैं। उत्तराखंड परिवहन निगम की दो बसें इस जाम में भी फंस गई। वहीं, एआरएम हल्द्वानी डिपो सुरेंद्र सिंह बिष्ट ने बताया कि अब बसों को हल्द्वानी से कालाढूंगी होकर बाजपुर को भेजा जा रहा है। जिसके बाद बाजपुर से मुरादाबाद पहुंच बस दिल्ली रूट पर बढ़ रही है। निगम के मुताबिक उत्तर प्रदेश से सटे इलाकों में आंदोलन की स्थिति को देखते हुए ही रूट को लेकर आगे और निर्णय लिए जाएंगे।

तरुण बने एआरएम वित्त

हल्द्वानी डिपो के एआरएम सुरेंद्र सिंह बिष्ट लंबे समय से दो दायित्व निभा रहे थे। एआरएम वित्त नैनीताल रीजन की जिम्मेदारी भी उन्हीं पर थी। वहीं, अब मुख्यालय ने बिष्ट से एक चार्ज हटा लिया है। एआरएम वित्त की जिम्मेदारी अब तरुण अवस्थी को दी गई है। हालांकि, उन्होंने अभी चार्ज नहीं लिया।


Recent Comments