Home Blog

Jim Corbett National Park

Corbett Park Ramnagar

The Jim Corbett park is first national park of India established in the year 1936 it was named Hailey National Park. In 1957 ,the park was rechristened as the Corbett National Park in the memory of Late Jim Corbett great naturalist ,eminent conservationist. It is 118 Kms. from Nainital via Kaladhungi & Ramnagar.

The Corbett national park covering an area of 521 Sq. Kms. is situated at the foothills of the Himalayas . It spreads over parts of two districts , a major part of park with an area of 312.86 sq. Kms. falls in Pauri Garhwal district and the balance 208.14 sq. Kms. in Nainital district. The park occupies portions of Kalagarh and Ramnagar forest divisions .It falls within the trek of land known as Paltidun.

How To Reach Corbett
The nearest rail head is Ramnagar which is the terminus of Delhi-Moradabad-Ramnagar broad gauge branch of North East Railway.Ramnagar is connected by road to Delhi as well as Lucknow. Delhi is 240 Kms. away via Kashipur-Moradabad-Ghaziabad , while Lucknow is 432 Kms. via Kashipur-Rampur & Bareilly. Ramnagar is 60 Kms. from Nainital via Kaladhungi.The nearest airport is at Pantnagar about 80 Kms. from Ramnagar. Dhangarhi is the main entrance to the park is located on Ramnagar-Ranikhet road 19 Kms. from Ramnagar.Dhangarhi houses a museum of dead animals and is worth visiting. South western boundry of park touches Kalagarh which can also be approached from Moradabad.Dhikala 35 Kms. from Dhangarhi connected by forest road is the main tourist spot of the park.There is one more entrance from Amdanda six Kms. from Ramnagar in Phooltal area.

General Information About Corbett Park
Year of establishment :1936
Area is square kms.: 1288.32
Corbett National Park: 520.82
Sonanadi Wildlife Sanctuary: 301.18
Reserve Forest: 466.32
Visitors Season: 1st Oct. to 15th June
Dhikala Zone: 15th Nov to 15th June
Bijrani Zone: 15th Oct to 30th June
Sonanadi Zone: 15th Oct to 30th June
Domunda Zone: 15th Oct to 30th June
Jhirna Zone: Round the year
.
Main Rivers Flowing Through The Reserve: Ramganga, Sonanadi, Mandal, Palain
Wild Animals/ Mammals
 
Wild Elephants, Tiger, Leopard, Civet, Jungle Cat,  Leopard Cat, Sambahar, Chital, Hog Deer, Barking Deer, Ghural, Neel Gai, Wild Boar, Slothbear, Marten, Otter, Mongoose, Hare.
Birds: Over 580 Species of resident & migratory  birds.
Reptiles: Gharials, Crocodiles, Python, Turtles, King Cobra, Lizard .
Fishes: Mahseer, Goonch, Trout.

Places Nearby: Sitabani, Garzia Devi, Kalusidh, Machor, Kalagarh Dam, Lansdowne,  Kaladhungi Corbett Museum,  Nayagaon water fall, Nainital

Approach from Ramnagar, Headquarter of project Tiger, where each visitor has to get prior permission for visiting park. Here besides a regular bus service to Dhikala, taxis are also available.

The park embraces the picturesque broad flat valley consisting of vast Savannah and surrounded by hills drained by small rivers .Savannah woodland ,bamboo brakes dry deciduous forests and Sissu-Khair forests provide as variety of vegetation and consequently habitats for different species of wild life. The Ramganga river Elephant Herd In Corbettmeandering its way through the park with some deep pools and foaming rapids forms the main water source. Good size patches of thick elephant grass growing along the river banks and moist localities provide ideal shelter to the tiger. The forests in the park mainly consists of Shisham, Sal & Pine.
 
The park is rich in wild life such as elephant ,tiger, panther, bear, dear, pig, jungle cats, porcupine, hyena, and jackal. Amongst the birds are the pea fowl, the jungle fowl ,grey and black partridge, pigeons, quails, kingfisher, kite, lark and the woodpecker. The Ramganga is full of mahaseer fishes. AmElephantongst the reptiles are python, crocodile and many species of lizards and snakes.

Tigers are fairly well distributed over the park and inhabit the large number of nalas, ravines and open glades The natural food of the tiger consists of Sambhar, Chital, Kakar, Para and wild boar is found in plenty all over the reserve. Sloth bears are confined mainly to hilly area .Several elephants live in the park, but they keep moving to the adjoining forests in search of food.

Haldwani: Commerce hub of Kumaun

Haldwani gateway to Kumaon

Haldwani and Kathgodam were two different townships in the past but now it has amalgamated in one unit. Kathgodam means a depot of wood. In the days gone by from Kumaon region timer was collected and stacked at this place and then transported away. Haldwani word was derived from Haldu tree (Haldina Codifolia) and Bani meaning a small forest. Up till recently Haldwani had huge amount of Haldu trees having yellow coloured wood. Meetre gauze railway line was built in 1892 by Rohilkhand and Kumaon Railways which was later taken over, by Oudh and Tirhut Railways. Recently all the railways were nationalized and it came under North Eastern Railways. The tracks have since been changed and are now having broad gauze line from May 1994.

Haldwani was established in 1834 by some English gentleman locally famous in those days as ‘Rail Sahib’ before that it was forest of Haldu trees. Most probably Rail Sahib was Mr. Trail himself. Whatsoever population one can dream of was somewhere near Kota Haldu according to some books. Kota Haldu is not traceable now; probably it it present Mota Haldu. First pucca masonry house was built in the year 1850 and first Ram Lila ground was acquired in 1984 by Sri Debi Dutt Joshi. Haldwani became notified area in 1904 and later on declared a municipal board.

Kathgodam was previously known as ‘Bamori Ghati’. It was named as Kathgodam on 24th April 1884 after it was made the terminal station of Rohilkhand and Kumaon Railways. This is one of the rail terminus for Kumaon hills situated in the foothill of the Himalayas the other being at Tanakpur. Direct and daily service in the foothill of the Himalayas and other being at Tanakpur. Direct and daily service is available to Howrah via Lucknow and Gorakhpur and Delhi via Rampur and Moradabad.

Nainital Weekend Gateway – 2 Nights/ 3 Days

Nainital Weekend Gateway

Suggested Itinerary for enjoying weekend at Nainital & Corbett in Uttarakhand, India

Nainital – Corbett -2N/3D

Weekend Getaway : Joy with excitement, visit Lake City Nainital & famous Corbett National Park in a 2 nights and 3 days short trip.

Program Schedule:

Day1 : Journey Started from Haldwani/Kathgodam Railway/Bus station, move to Nainital. Check-in to hotel, refreshment and rest for couple of hours, after having snacks and tea walking on Mall Road, side of the Naini lake. After this soft walk, return to hotel, have dinner and overnight stay at the hotel.

Day2: After breakfast, visit to Hanumangarhi temple, a famous religious place, later proceed to Corbett. On the way to you can visit to Corbett water fall, Corbett Museum. Dinner and overnight stay to Hotel.

Day3: After breakfast, check out from hotel, visit to famous temple Garjia, then depart to Kathgodam to board your train.

नैनीताल में है देश का पहला 146 साल पुराना आर्य समाज मंदिर

Arya Samaj temple in Bara Bazar
Arya Samaj temple in Bara Bazar

नैनीताल, किशोर जोशी। महर्षि दयानंद सरस्वती ने 1875 में सत्यार्थ प्रकाश पुस्तक लिखी थी, जिसमें आर्य समाज के सम्पूर्ण दर्शन की झलक मिलती है। 1882 में किताब में संशोधन किया और 20 भाषाओं में अनुवादित हुई। रामनगर के ढिकुली निवासी गजानंद छिमवाल महर्षि दयानंद की विचारधारा से अत्यधिक प्रभावित थे।  गजानंद में 20 मई 1874 को सत्यधर्म प्रकाशिनी सभा की स्थापना नैनीताल में की। यह आर्य समाज आंदोलन की नैनीताल में शुरुआत थी। शिल्पकार जाति के उत्थान के प्रारंभ इसी सभा के साथ शुरू हुआ।

इतिहासकार प्रो अजय रावत के अनुसार सत्यधर्म प्रकाशिनी सभा ने शिल्पकार समाज के बड़े नेता खुशीराम को बेहद प्रभावित किया। खुशीराम ने स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 7 अप्रैल 1875 को जब स्वामी दयानंद सरस्वती ने बम्बई में आर्य समाज की स्थापना की तो गजानंद छिमवाल व उनके साथियों ने सत्यधर्म प्रकाशिनी सभा में आर्य समाज का अनुसरण किया। साथ ही सभा द्वारा तल्लीताल कचहरी रोड में गजानंद छिमवाल के निजी आवास पर आर्य समाज मंदिर की स्थापना की,  जो न केवल भारत में बल्कि दुनिया का पहला आर्य समाज मंदिर था। आजादी के बाद आर्य समाज को मल्लीताल स्थानांतरित किया गया और वह वर्तमान समय में भी है

प्रो रावत के मुताबिक इस स्थानांतरण का श्रेय तत्कालीन पालिकाध्यक्ष जसोद सिंह बिष्ट व कुमाऊं कमिश्नर आरबी शिवदसानी को जाता है। उन्होंने यह भूमि आजादी के बाद ही आर्य समाज को आवंटित कर दी थी। महान स्वतंत्रता सेनानी मुंशी हरिप्रसाद टम्टा भी आर्य समाज से बहुत प्रभावित थे। अलग राज्य आंदोलन में भी नैनीताल आर्य समाज के सचिव स्वं माधवानंद मैनाली ने अहम भूमिका निभाई। नैनीताल आर्य समाज मंदिर की ओर से वेद सप्ताह के तहत हर साल वेदों का प्रचार प्रसार किया जाता है।

नैनीताल तीन तो मुक्‍तेश्‍वर का पारा 1.7 डिग्री पहुंचा, पहाड़ों में पाला तो मैदान में कोहरा से हो सकती है परेशानी

बारिश व जबरदस्त ठंड देने के साथ पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव समाप्त हो गया है। शनिवार की बारिश व पिथौरागढ़ की ऊंची चोटियों पर हुए हिमपात के बाद नैनीताल का तापमान 3.0 डिग्री पहुंच गया। दिसंबर में पहली बार मुक्तेश्वर का पारा 1.7 डिग्री पर आ गया। हल्द्वानी का तापमान 6.0 डिग्री पहुंचने से ठंड में बढ़ोतरी हो गई है। ठंड का असर अगले कुछ दिन बना रह सकता है। सोमवार सुबह कुमाऊं के अधिकांश स्थानों पर आसमान साफ बना हुआ है। दोपहर में धूप खिली होने से ठंड से राहत महसूस हो रही है। रविवार को हल्द्वानी का अधिकतम तापमान 22.3 डिग्री दर्ज किया गया। देहरादून मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अगले दो दिन पर्वतीय जिलों में कहीं कहीं पाला पडऩे की संभावना है। ऐसे में पहाड़ी क्षेत्रों में सुबह-शाम व रात के समय गलन पैदा करने वाली ठंड हो सकती है। मैदानी इलाकों में कोहरा छा सकता है। हालांकि दिन में आसमान साफ रहेगा और मौसम शुष्क बना रह सकता है।

नैनीताल का 179वां जन्मोत्सव : पी बैरन ने नहीं कमिश्‍नर जीडब्ल्यू ट्रेल ने की थी नैनीताल की खोज

Naintial Online

नैनीताल : नैनीताल की 1841 में हुई खोज का श्रेय अब तक पी बैरन को ही दिया जाता है। प्रसिद्ध इतिहासकार प्रो. अजय रावत अब इसमें नई जानकारी सामने लाए हैं। राज्य अभिलेखागार लखनऊ से हासिल पुस्तक ‘वांडरिंग इन द हिमाला’ के हवाले से प्रो. रावत कहते हैं कि ब्रिटिश राज में पी बैरन नहीं बल्कि तत्कालीन कुमाऊं कमिश्नर जीडब्ल्यू ट्रेल सबसे पहले 1823 में नैनीताल आए थे। जबकि पी बैरन पहली बार 1839 तथा दूसरी बार 1841 में नैनीताल आए थे। ‘वांडरिंग इन द हिमाला’ पुस्तक के माध्यम से आगरा अखबार में स्वयं उन्होंने इस बात का उल्लेख भी किया। 18 नवंबर 1842 को जब वह तीसरी बार नैनीताल आए तब यहां नगरीकरण शुरू हो गया था। इस लिहाज से पी बैरन ने 1841 में नहीं बल्कि ट्रेल ने 1823 में ही नैनीताल की खोज कर ली थी। नैनीताल की खोज से जुड़ा यह तथ्य जर्नल ऑफ लेंडस्केप हिस्ट्री बर्किंघम, इग्लैंड में प्रकाशित हुआ है।

नैनीताल के जन्मोत्सव की पूर्व बेला पर प्रो. रावत ने कहा कि किताब में पी बैरन ने खुद लिखा है कि मुझसे पहले जीडब्ल्यू ट्रेल नैनीताल आ चुके हैं, मगर उन्होंने किसी को नहीं बताया। अंग्रेज कमिश्नर ट्रेल का स्थानीय जनता सम्मान करती थी। उस दौर के अंग्रेज यात्री बिशप हीवर ने भी कुमाऊं की यात्रा की थी, उन्होंने भी अपनी किताब में लिखा है कि ट्रेल बदरीनाथ यात्रा करने वाले पहले अंग्रेज यात्री थे। उन्होंने ही अंगे्रजी सरकार के खिलाफ जाकर व अंग्रेजों से ही चंदा लेकर बदरीनाथ मार्ग का सुधार करने के साथ नालों पर पुल बनाए। ट्रेल 1816 से 1836 तक कुमाऊं कमिश्नर रहे। उनकी पत्नी भी पहाड़ की थी, वह यहीं रहना चाहते थे, मगर बच्चों की वजह से उन्हें जाना पड़ा।

तब पवित्र स्वरूप में थी सरोवर
उस दौर में पवित्र स्थान होने की वजह से हल्द्वानी से आने वाले लोग हनुमानगढ़ी में जबकि कालाढूंगी के रास्ते आने वाले लोग बारापत्थर में जूते चप्पल उतारने के बाद ही नैनीताल आते थे। पवित्र स्थल होने की जानकारी होने पर पी बैरन ने भी सरोवर के बारे में किसी को नहीं बताया। उनका मानना था कि अंग्रेज इस पवित्र स्थल को खराब कर देंगे।

ट्रेल ने किया पहला बंदोबस्त

इतिहासकार प्रो. रावत के अनुसार 1815 में अंग्रेजों ने कुमाऊं में अधिकार जमाया और तब पहले कमिश्नर गार्डनर बनाए गए। उनका कार्यकाल छह माह रहा, मगर गोरखाओं के साथ राजनीतिक संबंधों की वजह से उनका अधिकांश समय काठमांडू में ही व्यतीत हुआ। छह माह बाद गार्डनर के सीनियर असिस्टेंट ट्रेल को कुमाऊं कमिश्नर बनाया गया। ट्रेल ने ही 1823 में भू राजस्व के लिए गांवों के राजस्व मानचित्र बनाए। तब नैनीताल को छकाता परगना कहा गया था। संवत 1880 में बंदोबस्त होने की वजह से यह 80 साला बंदोबस्त के रूप में चर्चित है। प्रो. रावत के अनुसार नैनीताल को बसाने व संवारने में ट्रेल के साथ ही ठेकेदार मोती राम साह व कमिश्नर लूसिंगटन का भी महत्वपूर्ण योगदान है। साह ने ही नैनीताल की पुरानी कोठियां बनाई जबकि लूसिंगटन ने 1841 मेें नगरीकरण शुरू किया।

नैनीताल जन्मोत्सव कार्यक्रम आज

नैनीताल के 179वें जन्मोत्सव पर बुधवार को श्रीराम सेवक सभागार में सांकेतिक रूप से सर्वधर्म पूजा कार्यक्रम अपराह्नï दो बजे से शुरू होगा। मुख्य अतिथि अपर पीसीसीएफ डा. कपिल जोशी, विशिष्ट अतिथि विधायक संजीव आर्य होंगे। आयोजक दीपक बिष्ट ने बताया कि वरिष्ठ नागरिकों की विचार गोष्ठी होगी।

हल्द्वानी- गेटवे ऑफ़ कुमाऊँ

हल्द्वानी उत्तराखंड राज्य के नैनीताल जिले में स्थित एक नगर है । यह उत्तराखंड के सर्वाधिक जनसँख्या वाले नगरों में से एक है । इसे कुमाऊँ का प्रवेश द्वार कहा जाता हैं । यह विमानों तथा ट्रेन के लिए आखिरी स्टेशन हैं । “हल्द्वानी” शब्द कुमाऊनी शब्द “हल्दू -वानी” जिसका अर्थ “हल्दू का जंगल” के नाम पे रखा गया ।

haldwani_हल्द्वानी के आकर्षण
हल्द्वानी में घूमने के लिए प्रमुख स्थानों में गौला बैराज, माँ शीतला देवी मंदिर, जमरानी, मैगी पॉइंट, बेल बाबा मंदिर तथा रानीबाग़ प्रमुख हैं ।
हल्द्वानी के पूर्व दिशा में गौला नदी तथा कालीचौड मंदिर है इस मंदिर में शिवरात्रि के दिन श्रद्धालु अधिक संख्या में उपस्थित होते हैं । पश्चिम में लामाचौड़ और कालाढूंगी में उपजाऊ कृषि मैदान हैं जो विश्व प्रसिद्ध कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में मिलते है। उत्तर दिशा में रानीबाग़ नामक स्थान है । जहाँ हिन्दुओ का पवित्र चित्रशिला नामक शमशानघाट है । यहाँ प्रतिवर्ष मकरसक्रांति के दिन मेला लगता है । तथा दक्षिण में पंतनगर विशविद्यालय स्थित हैं । जो कृषि अनुसन्धान के लिए प्रसिद्ध हैं ।

जीवनशैली
हल्द्वानी में प्रमुख रूप से कुमाऊनी लोगों की अधिकता है । अर्थात यहाँ अधिक संख्या में कुमाऊनी लोग निवास करते हैं । परन्तु इसके अतिरिक्त यहाँ बहुत से नगरों और क्षेत्रों के लोग भी निवास करते है । दो दशक पहले तक हल्द्वानी एक छोटा सा क़स्बा था । परन्तु पिछले कुछ वर्षो में बढ़ते नगरीकरण के चलते यह एक व्यापारिक क्षेत्र के रूप में उभरा है । और यहाँ कई आधारभूत सुविधाओं मे वृद्धि हुई हैं ।

MBPG haldwani शिक्षण
हल्द्वानी में कई विद्यालय हैं, जो की उच्च स्तर की शिक्षा प्रदान करते है- जिनमे आर्यमान विक्रम बिड़ला, सैकरैड हार्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, निर्मला कान्वेंट, हर गोविन्द सुयाल, एम.बी. इंटर कॉलेज और एच.एन. इंटर कॉलेज आदि प्रमुख है ।
उच्च शिक्षा (Higher Education) के लिए एम.बी.पी.जी. कॉलेज, गवर्नमेंट गर्ल्स डिग्री कॉलेज, पंतनगर यूनिवर्सिटी जिसका कृषि अनुसंधान के लिए देश में प्रमुख संस्थान है। आम्रपाली संस्थान लामाचौड़ जो की होटल मैनेजमेंट तथा टेक्निकल एजुकेशन के लिए है, तथा गवर्नमेंट द्वारा संचालित गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज स्थित हैं । और युवाओ को रोज़गार परक शिक्षा के लिए यहाँ धानमिल रोड स्थित आई टी आई भी प्रमुख हैं ।
दूरस्थ शिक्षा के लिए तीन पानी स्थित उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी भी प्रमुख है । जहाँ ४० से भी अधिक कोर्सेज उपलब्ध हैं । इसके अतिरिक्त यहाँ बहुत से एजुकेशन सेण्टर है । जो की लघु – अवधि के लिए आजीविका उन्मुख ट्रेनिंग देते हैं ।

उत्तराखंड का प्रमुख नगर होने के कारण यहाँ पिछले २० वर्षो में नगरीकरण बहुत तेजी से हुआ हैं । तथा यह नगर अपनी “ग्रीन-सिटी” की उपाधि को बचाये रखने में संघर्षरत हैं ।

कॉर्बेट के होटल

corbett hotels

जानिये कॉर्बेट के होटल के बारे मे

Premium Hotel Corbett (6,500/8,500 rs per night)

aahanaresort
Aahana the Corbett Wilderness
The resort derives its name from the Sanskrit word- Aahana (first rays of the rising sun) because the first rays of the sun fall on the resort and bathe the landscaped property in golden light.

Website : https://www.aahanaresort.com/


alayaresort
Alaya Resorts & Spa
Surrounded by the serenity and charm of the mountains, Alaya Resorts & Spa by Parfait, Jim Corbett is the ideal place to ‘relax’.

Website : https://www.alayaresorts.com/


solluna
Solluna Resort
The word “Solluna” depicts the captivating beauty of the sun (sol) and the moon (Luna) being observed at the same time at the dusk.

Website : http://www.sollunaresort.com/

Luxury Hotel Corbett (4,500/6,500 rs per night)

gatewayresort
The Gateway Resort Corbett
Experience nature up close at this picturesque hotel surrounded by lush green forests. Located on the banks of River Kosi close to the renowned Corbett National Park.

corbetttuskertrail
Corbett Tusker Trail
the most distinguished and exclusive resort in Corbett Park. The Corbett Tusker Trail combines a tradition of exceeding guest expectations with contemporary modern interiors and highly intimating services.

Website : http://www.corbetttuskertrail.com/


corbettthebaghspa
Corbett The Baagh Spa & Resort
At Corbett The Baagh Spa & Resort, we leave no stone unturned (pun unintended) to give you the most memorable experience of the jungle.

Website : http://www.corbettthebaagh.com/

Budget Hotel Corbett (3,200/4,800 rs per night)


gajrajresort
Gajraj Trails Resort
Gajraj Trails Resort welcomes you to the oldest national park in India, with warm hospitality and signature services.

Website : http://www.gajrajtrailsresort.in/


jims-jungle-retreat
Jim’s Jungle Retreat
Jim’s Jungle Retreat is a wildlife lodge in Corbett Tiger Reserve, nestled between the Himalayan foothills in the north and the ancient Shivaliks in the south.

Website : http://www.jimsjungleretreat.com/

पंगोट – पक्षिओ का स्वर्ग

Pangot birds

पंगोट नैनीताल से 17.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन हैं | पंगोट बर्ड वाचर्स के लिए स्वर्ग माना जाता जाता हैं | क्योकि यहाँ बर्ड्स की लगभग 580 प्रजातियां पाई जाती हैं | जिनमे से कई दुर्लभ प्रजाति के बर्ड्स है | पंगोट के चारो ओर खूबसूरत घाटी और पहाड़िया हैं |
इसके अतिरिक्त अगर आप पक्षी प्रेमी नहीं है तो आपको थोड़ी निराशा हो सकती हैं | मगर यदि आप पहाड़ो की ठंडी वादियों मे शांत जगह की तलाश कर रहे हैं | तो पंगोट आप के लिए श्रेष्ठ हैं | क्योकि यहाँ नैनीताल की तुलना में बहुत कम भीड़-भाड़ तथा शोर-शराबा हैं | पंगोट मैं रुकने के लिए आस-पास कई होटल तथा काटेज हैं | जहा आप रुक सकते हैं |
पंगोट चारो ओर खूबसूरत घाटी और पहाड़ियो से घिरा एक छोटा गांव हैं | अगर आप पक्षी प्रेमी नहीं हैं तो आपको थोड़ी निराशा हो सकती हैं क्योकि यहाँ नैनीताल की तरह आस पास कोई पर्यटन स्थल नहीं हैं |

खुर्पाताल – रहस्यमयी झील

khurpatal Nainital

खुर्पाताल नैनीताल से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित टूरिस्ट डेस्टिनेशन है | यह झील 5500 ft (1635 mt) के altitude पर स्थित हैं। ब्रिटिश मैगज़ीन के अनुसार खुर्पाताल की खोज 1840 से 1850 के मध्य की मानी जाती हैं | खुर्पाताल झील का नाम खुर्पाताल इसलिए पड़ा क्योकि जब आप इसे ऊपर से देखोगे तो इसकी झील का नज़ारा खुर के समान दिखता है। इस ताल का पानी साफ़ तथा गर्म होता है तथा इसे गर्म पानी के ताल के नाम से भी जाना जाता है। सर्दियों के समय में भी इस झील का पानी हल्का गुनगुना होता हैं तथा इस ताल मैं फिशिंग भी होती है।

खुर्पाताल मे बोटिंग नहीं होती है। और न ही यहाँ टूरिस्ट एक्टिविटी होती हैं। खुर्पाताल झील अपना रंग बदलती रहती हैं।  इस झील का रंग कभी लाल तो कभी हरा तो कभी नीला दिखाई देता है। इस कारण इसे रहस्मयी झील भी कहा जाता है। खुर्पाताल झील से थोड़ी दूर ऊपर मनसा देवी मंदिर हैं। मान्यता हैं की इस मंदिर से खुर्पाताल झील मैं आप पत्थर फेकते हैं और अगर आपका पत्थर इस झील मैं पहुंच जाता हैं तो आपकी मनोकामना पूर्ण हो जाती है।
खुर्पाताल के पास कई गेस्ट हाउस, होटल, रिसोर्ट है, जहा आप रुक सकते हैं।

देखें Video :